Ad12

Ad12

LS03 संतमत का शब्द-विज्ञान || संतों का शब्द-संबंधी विशेष ज्ञान से संबंधित पद्य की विस्तृत व्याख्या

LS03 संतमत का शब्द-विज्ञान

     प्रभु प्रेमियों  ! लालदास साहित्य सीरीज के तीसरे पुस्तक के रूप में  "संतमत का शब्द-विज्ञान "  संतों के शब्द-संबंधी विशेष ज्ञान से संबंधित पद्य "अव्यक्त अनादि अनन्त अजय अज ..." की विस्तृत व्याख्या की पुस्तक है. आज इसी पुस्तक के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे.

लालदास साहित्य सीरीज की दूसरी पुस्तक 'संतमत दर्शन' के बारे में जानकारी के लिए    👉 यहां दवाएँ 


संतमत का शब्द विज्ञान
संतमत का शब्द-विज्ञान


संतों का शब्द-संबंधी विशेष ज्ञान से संबंधित पद्य

     प्रभु प्रेमियों  !  ' संतमत का शब्द - विज्ञान ' नाम्नी प्रस्तुत पुस्तक में लेखक ने संतों के शब्द - संबंधी विचारों को गागर में सागर की भाँति समाविष्ट करने का प्रयत्न किया है । शब्द ज्ञान अपार है । विद्या की अधिष्ठात्री देवी श्रीसरस्वतीजी के विषय में लिखा गया संस्कृत का यह श्लोक ध्यान देने के योग्य है -
नादाब्धेस्तु परं पारं न जानाति सरस्वती । 
अद्यापि मज्जनभयात् तुम्बं वहति वक्षसि ॥ 

     अर्थात् नादरूपी समुद्र की सीमा का पार सरस्वतीजी भी नहीं जानतीं ; इसीलिए आज भी डूबने के भय से वे हृदय के पास तुम्बे को धारण किये हुई हैं । 

     संसार में कोई भी क्रिया कम्पन के बिना नहीं हो सकती । सृष्टि के पूर्व अनन्तस्वरूपी परमात्मा ने अपनी अपरंपार शक्तिमत्ता से एक शब्द पैदा किया , उसमें जो कम्पन था , उसी से सारी सृष्टि का विकास हुआ । वेद , उपनिषद् , संतवाणी , बाइबिल , कुरान आदि प्रायः सभी धर्मग्रंथ इस बात को स्वीकार करते हैं कि शब्द से सृष्टि हुई है । यह शब्द संसार में ' ओम् ' कहकर विख्यात है । अंतस्साधना के द्वारा जिसकी सुरत इस शब्द को पकड़ती है , वही परमात्मा का साक्षात्कार कर पाता है । यह आदिशब्द परमात्मा का स्वरूप , अलौकिक , नित्य , सर्वव्यापी , निर्मल चेतन , निर्गुण , अव्यक्त और अकथनीय है । इस शब्द की बड़ी महिमा है । 

न नादेन विना ज्ञानं न नादेन विना शिवः । 
नादरूपं परं ज्योतिर्नादरूपी परो हरिः ।। 

     अर्थात् नाद के बिना ज्ञान नहीं हो सकता ; नाद के बिना कल्याण ' नहीं हो सकता ; नाद ही श्रेष्ठ ज्योतिस्वरूप है और नादरूप ही हरि हैं । 

     परमाराध्य सद्गुरु महर्षि मेँहीँ परमहंसजी महाराज अपनी पदावली के १२६ वें पद्य में कहते हैं कि यह आदिशब्द गुरु का स्वरूप , शान्ति प्रदान करनेवाला और अनुपम अर्थात् अद्वितीय है -

' गुरु ही सो शब्दरूप , शान्तिप्रद औ अनूप । '

      इस पुस्तक में मुख्य रूप से इसी आदिशब्द के विविध गुणों केविषय में लिखा गया है । सच पूछा जाए , तो इस पुस्तक में ' महर्षि मँही पदावली ' के पाँचवें पद्य ( अव्यक्त अनादि अनन्त अजय अज ... ) की विस्तृत व्याख्या की गयी है । 

     पुस्तक में आये जिस पद्यात्मक उद्धरण में केवल पद्य संख्या का निर्देश किया गया है , वह उद्धरण ' महर्षि मँहीँ - पदावली ' का समझा जाना चाहिए । 


संतमत का शब्द विज्ञान पुस्तक की मुख्य कबर पृष्ठ
संतमत का शब्द-विज्ञान
इस पुस्तक के बारे में

 विशेष जानकारी के लिए  

 👉 यहां दबाएं.





LS03 'संतमत का शब्द-विज्ञान' पुस्तक को आप अभी  ओनलाइन  खरीद सकते हैं-


सुन्न


LS03   इस पुस्तक के सामान्य संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि- ₹ 45.00/- + शिपिंग चार्ज


संतमत का शब्द विज्ञान पुस्तक की मुख्य कबर पृष्ठ
संतमत का शब्द-विज्ञान



     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करेंजिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो  में इस पुस्तक के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज




 लालदास साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  LS04


पिंड माहिं ब्रह्मांड
पिंड माहिं ब्रह्मांड'
LS04  'पिंड माहिं ब्रह्मांड'  || मनुष्य शरीर में विश्व ब्रह्मांड के दर्शन और सन्त-साहित्य के पारिभाषिक शब्दें की जानकारी वाली पुस्तक के बारे में विशेष जानकारी के लिए   👉 यह दवाएँ .


सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की पुस्तकें मुफ्त में पाने के लिए  शर्तों के बारे में जानने के लिए   यहां दवाएं

---×---

LS03 संतमत का शब्द-विज्ञान || संतों का शब्द-संबंधी विशेष ज्ञान से संबंधित पद्य की विस्तृत व्याख्या LS03  संतमत का शब्द-विज्ञान  ||  संतों का शब्द-संबंधी विशेष ज्ञान से संबंधित पद्य की विस्तृत व्याख्या Reviewed by सत्संग ध्यान on दिसंबर 02, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.