Ad12

Ad12

MS02 रामचरितमानस-सार सटीक ।। रामायण में गुप्त-योग से संबंधित 152 दोहों और 951 चौपाइयों

रामचरितमानस-सार सटीक

       प्रभु प्रेमियों ! 'रामचरितमानस-सार सटीक' पुस्तक में  रामचरितमानस के 152 दोहों और 951 चौपाइयों की व्याख्या की गयी है। इसका मुख्य लक्ष्य है-स्थूल भक्ति और सूक्ष्म भक्ति के साधनों को प्रकाश में लानाा है। रामचरितमानस के पूरे कथानक को रखते हुए उनमें जो योग बिषयक मुख्य-मुख्य दोहा, चौपाईयां हैं; उनका वर्णन करके उसकी व्याख्या की गई है । 



रामायण
रामचरितमानस सार सटीक

रामचरितमानस सार सटीक पुस्तक की महत्वपूर्ण बातें

      प्रभु प्रेमियों  ! संत कवि मेँहीँ की यह दूसरी रचना है। यह 1930 ई0 में भागलपुर, बिहार प्रेस से प्रकाशित हुई थी। इसमें गोस्वामी तुलसीदासजी के रामचरितमानस के 152 दोहों और 951 चौपाइयों की व्याख्या की गयी है। इसका मुख्य लक्ष्य है-स्थूल भक्ति और सूक्ष्म भक्ति के साधनों को प्रकाश में लानाा है। रामचरितमानस के पूरे कथानक को रखते हुए उनमें जो योग बिषयक मुख्य-मुख्य दोहा, चौपाईयां हैं; उनका वर्णन करके उसकी व्याख्या की गई है । कथा को भी बनाए रखने के लिए उसका सार भाग जोड़ते हुए आगे बढ़ा दिया है। जिससे कथा का भी आनंद और योग विषयक रामचरितमानस में वर्णन का भी विशेष जानकारी प्राप्त होता है। 

     इस उत्तम ग्रन्थ को तो ' रघुवर भगति प्रेम परमिति - सी ' के स्थूल रूप में सर्वसाधारण देखते ही हैं और कुछ लोग इसे ' सद्गुरु ज्ञान विराग जोग के ' के रूप में भी देख रहे हैं । पर इसके दोनों उपर्युक्त स्वरूपों को पूर्ण रूप से कोई बिरले ही देख सकते हैं । क्योंकि भक्ति का स्थूल स्वरूप जितनी सरलता से देखा जा सकता है , उतनी सरलता से उसका सूक्ष्म स्वरूप नहीं दरसता है और योग - विराग आदि को ' मानस ' का जलचर बनाकर ग्रन्थकार ने रखा है । ( ' नव रस जप तप जोग विरागा । ते सब जलचर चारु तड़ागा ॥ ' ) जलचर जल - गर्भ में छिपे रहते हैं और सरलता से देखे नहीं जाते । 

     रामचरितमानस के उपर्युक्त दोनों स्वरूपों का पूर्ण रूप से दर्शन करने के लिए ही मैंने उससे सार - संग्रह करने का प्रयास किया है । इसमें वर्णित योग कठिन हठयोग नहीं है , बल्कि परम सरल भक्ति योग है , जिसका अभ्यास रेचक , पूरक और कुम्भक के द्वारा न होकर रामचरितमानस में वर्णित नवधा भक्ति के द्वारा वा कागभुशुण्डिजी के भजनाभ्यास की रीति से होता है । इन प्रसंगों का वर्णन इसमें समुचित रीति से किया गया है ।

     इसमें वर्णित राम - कथा को सुनने - समझने का जितना ख्याल लोगों में है , उसका शतांश भी इसमें विशद रूप से वर्णित राम के सत्यस्वरूप और उसे पाने के लिए पूरी भक्ति करने का विचार ( उनमें ) नहीं है । यद्यपि गोस्वामीजी ने जन - रुचि को आकर्षित करने के लिए कथानक का सहारा लिया है , परन्तु विद्वज्जन भी इन स्थूल कथाओं में ही उलझे - से रह जाते हैं । बहुत कम विद्वान ही इसकी गहराई में डुबकी लगाने का प्रयत्न करते हैं । 

     संत सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंसजी महाराज ने सन्त - साधना की पूरी अनुभूति का वर्णन रामचरितमानस में पाया है और इसीलिए उन्होंने सर्वजन - कल्याण के लिए इस सुप्रचारित ग्रन्थ में छिपे ज्ञान का उद्घाटन किया है तथा कथानकों का संक्षिप्त वर्णन करते हुए रामचरित के मान - सरोवर में छिपे जलचरों को पकड़ पकड़कर जैसे बाहर ला दिया है और इसका नाम ' रामचरितमानस सार सटीक ' रखा है ।




इस पुस्तक के बारे में बिसेष 
रूप से जानने के लिए





प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक को आप ऑनलाइन अभी खरीद सकते हैं-

चेतावनी


पुस्तक का मूल संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 300.00/-   +   शिपिंग चार्ज


रामायण


इस पुस्तक का हार्डकवर संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 330.00/-   +   शिपिंग चार्ज

रामायण हार्डकवर



इस पुस्तक का PDF संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 100.00/- 

नोट- पेमेंट करने के बाद अपना ईमेल से बुक डाउनलोड कर प्राप्त करें.


चेतावनी



     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो में इस पुस्तक के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज



महर्षि साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  MS03

MS03  वेद-दर्शन-योग
वेद-दर्शन-योग
MS03 वेद-दर्शन-योग || चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां और संतवाणी से मिलान इस पुस्तक के बारे में बिसेष जानकारी  के लिए  



---×---
MS02 रामचरितमानस-सार सटीक ।। रामायण में गुप्त-योग से संबंधित 152 दोहों और 951 चौपाइयों MS02  रामचरितमानस-सार सटीक ।। रामायण में गुप्त-योग से संबंधित 152 दोहों और 951 चौपाइयों Reviewed by सत्संग ध्यान on नवंबर 10, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.