Ad12

Ad12

MS03 वेद-दर्शन-योग || चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां और संतवाणी से मिलान

वेद-दर्शन-योग

     प्रभु प्रेमियों  ! वेद-दर्शन-योग-यह महर्षिजी की नौवीं कृति है। इसमें चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां लिखकर संतवाणी से उनका मिलान किया गया है। आबाल ब्रह्मचारी बाबा ने प्रव्रजित होकर लगातार ५२ वर्षों से सन्त साधना के माध्यम से जिस सत्य की अपरोक्षानुभूति की है , उसी का प्रतिपादन प्रस्तुत पुस्तक में किया गया है 

महर्षि साहित्य  MS02  'रामचरितमानस सार-सटीक' के लिए 


MS03  वेद-दर्शन-योग
वेद-दर्शन-योग

वेद-दर्शन-योग की महत्वपूर्ण बातें

    प्रभु प्रेमियों ! 'वेद-दर्शन-योग' यह महर्षिजी की नौवीं कृति है। इसमें चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां लिखकर संतवाणी से उनका मिलान किया गया है। इसका प्रथम प्रकाशन 1956 ई0 में हुआ था। आबाल ब्रह्मचारी बाबा ने प्रव्रजित होकर लगातार ५२ वर्षों से सन्त साधना के माध्यम से जिस सत्य की अपरोक्षानुभूति की है , उसी का प्रतिपादन प्रस्तुत पुस्तक में किया गया है । इतने लम्बे अरसे से वेद , उपनिषद् एवं सन्तवाणियों का अध्ययन तथा मनन एवं उनके अन्तर्निहित निर्दिष्ट साधनाओं का अभ्यास करते हुए परमपूज्य सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंसजी महाराज इस निष्कर्ष पर पहुँचे हैं कि मानव मात्र सदाचार - समन्वित हो दृष्टियोग और शब्दयोग ( नादानुसंधान ) अर्थात् विन्दुध्यान और नादध्यान के द्वारा ब्रह्म - ज्योति और ब्रह्मनाद की उपलब्धि कर परम प्रभु सर्वेश्वर को उपलब्ध कर सकता है । इसी विषय का स्पष्टीकरण उन्होंने प्रस्तुत ग्रन्थ में किया है । 

     साथ ही उन्होंने यह भी समझाने की भरपूर चेष्टा की है कि प्राचीन कालिक मुनि - ऋषियों से लेकर अर्वाचीन साधु - संतों तक की अध्यात्म - साधना पद्धति एक है । वेद - उपनिषदादि में वर्णित अध्यात्म- ज्ञान और कबीर , नानक , तुलसी प्रभृति आधुनिक सन्तों के व्यवहृत आत्मज्ञान में ऐक्य या पार्थक्य है ? - इस भ्रम के निवारणार्थ ' वेद - दर्शन - योग ' का प्रणयन किया गया है । अथवा सीधे शब्दों में यों भी कह सकते हैं कि प्रस्तुत पुस्तक उपर्युक्त ऐक्य वा पार्थक्य के असमंजस को मिटाकर पूर्ण सामंजस्य की स्थापना करती है । 


MS03  वेद-दर्शन-योग
वेद-दर्शन-योग


इस पुस्तक के बारे में बिसेष 
जानकारी  के लिए
👉 यहाँ दवाएं




प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक को आप ऑनलाइन अभी खरीद सकते हैं-


सचेतन


MS03  इस पुस्तक का मूल संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 75.00/-   +   शिपिंग चार्ज

MS03  वेद-दर्शन-योग
वेद-दर्शन-योग


MS03  इस पुस्तक का PDF संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि- ₹ 75.00/-  

सचेतन


प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो  में सत्संग योग चारो भाग के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज


महर्षि साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  MS04

विनय-पत्रिका-सार-सटीक
विनय पत्रिका सार सटीक
MS04 विनय-पत्रिका-सार सटीक ।। गो. तुलसी दासजी की साधना-पद्धति और साधनात्मक गति की बातें की अद्भुत पुस्तक.  इसके बारे में विशेष जानकारी के लिए 


---×---
MS03 वेद-दर्शन-योग || चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां और संतवाणी से मिलान MS03  वेद-दर्शन-योग  ||  चारो वेदों से चुने हुए एक सौ मंत्रों पर टिप्पणीयां और संतवाणी से मिलान Reviewed by सत्संग ध्यान on नवंबर 10, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.