Ad12

Ad12

LS02 संतमत - दर्शन || Santmat - Darshan || महर्षि मेंहीँ - पदावली ' के प्रथम पद्य की विस्तृत व्याख्या

संतमत - दर्शन || Santmat - Darshan

      प्रभु प्रेमियों ! परम पूज्य गुरुदेव की तेरह कृतियों में एक का नाम है ' महर्षि मँहीँ पदावली ' । इसमें उनके १४२ पद्यों का संग्रह है । इनमें से प्रथम पद्य की संज्ञा ' ईश - स्तुति ' है । सन्तमत में दीक्षित प्रायः समस्त सत्संगप्रेमी नित प्रातः निष्ठापूर्वक इसका पाठ किया करते हैं । इसमें क्लिष्ट तत्सम शब्दों के रहने के कारण अधिकांश जन इसके अर्थ से अनभिज्ञ रहते थे । श्रीछोटेलाल मंडलजी * , बी ० ए ० ( हिन्दी ऑनर्स ) ने इसकी अर्थ सह व्याख्या करके जन साधारण का बहुत बड़ा उपकार किया है ।

     पूज्यपाद लालदास साहित्य सूची  के  LS01 के बारे में जानने के लिए    👉 यहाँ दवाएं.

Santmat darsan
संतमत दर्शन

संतमत - दर्शन की महत्वपूर्ण बातें

     प्रभु प्रेमियों ! जीव में सुख पाने की कामना स्वाभाविक ही है । धर्मशास्त्रों में कहा गया है कि जीव अपने अंशी ईश्वर से मिलकर ही पूर्ण सुखी हो सकता है । संसार के समस्त वैभवों के बीच रहते हुए भी ईश्वर से युक्त त्रय तापों से संतप्त होता रहता है ।  ईश्वर स्वरूप को ठीक से समझे बिना जीवनभर सुख शान्ति के लिए ईश्वर भक्ति के नाम पर किया जानेवाला सारा श्रम निष्फल ही चला जाता है ।

  नावं न जानै गाँव का , कहो कहाँ को जाँव । चलते चलते जुग गया , पाँव कोस पर गाँव (संत कबीर साहब) 

     पदावली में जिन विषयों का वर्णन हुआ है , वे इस प्रकार हैं- ईश्वर का स्वरूप , जीव , माया , प्रकृति , सृष्टिक्रम , आदिनाद , संतमत के सिद्धान्त , संतमत की साधना - पद्धतियाँ ( मानस जप , मानस ध्यान , दृष्टियोग तथा शब्दयोग ) , साधना की अनुभूतियाँ , साधना के संयम , गुरु का महत्त्व , सद्गुरु के लक्षण , सद्गुरु के प्रति शिष्य के कर्त्तव्य , संत , सत्संग , सत्संग के प्रकार , विषय भक्ति , भक्ति के प्रकार , ब्रह्मरूप , गुरु - रूप , ध्यानाभ्यास का महत्त्व , सुख की दुःखरूपता , वैराग्य भावना , जीवन तथा जगत् की नश्वरता , जीवन जीने की कला , सांसारिक लोगों की स्वार्थपरता आदि - आदि ।

     ' संतमत - दर्शन ' नाम्नी इस प्रस्तुत पुस्तक में पदावली के प्रथम पद्य ( " सब क्षेत्र क्षर अपरा परा पर , औरु अक्षर पार में । " ) की व्याख्या पदावली के ही विचारों के प्रकाश में करने का प्रयत्न किया गया है । ईश्वर या परमात्मा का स्वरूप क्या है? इस पुस्तक में इस संबंध में अच्छी जानकारी दी गयी है । गागर में सागर की भाँति ईश्वर स्वरूप से संबंधित सारी बातें लिखी गयी हैं ।



इस पुस्तक के बारे में विशेष 
जानकारी के लिए 




चेतावनी


प्रभु प्रेमियों ! इस पुस्तक को आप निम्नलिखित वेबसाइट से ऑनलाइन खरीद सकते हैं।


Santmat darsan
संतमत दर्शन

@instamojo
LS02  संतमत - दर्शन || Santmat - Darshan || महर्षि मेंहीँ - पदावली ' के प्रथम पद्य की विस्तृत व्याख्या
बाय बटन


चेतावनी


     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो  में सत्संग योग चारो भाग के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज



लालदास साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  LS03

संतमत का शब्द विज्ञान
संतमत का शब्द विज्ञान
   LS03 या संतमत का शब्द - विज्ञान ||  ओंकार, आदिनाद, सारशब्द, सत्शब्द, हिरण्यगर्भ आदि शब्दों की विस्तृत जानकारी की अद्भुत पुस्तक.  इसके बारे में विशेष जानकारी के लिए  👉 यहां दबाएं.

---×---

➖➖➖➖➖➖➖➖➖
     * इस पुस्तक के लेखक पहले अपना नाम ' छोटेलाल मंडल ' ही लिखा करते थे , बाद में ' छोटेलाल दास ' लिखने लगे । --प्रकाशक
LS02 संतमत - दर्शन || Santmat - Darshan || महर्षि मेंहीँ - पदावली ' के प्रथम पद्य की विस्तृत व्याख्या  LS02  संतमत - दर्शन || Santmat - Darshan || महर्षि मेंहीँ - पदावली ' के प्रथम पद्य की विस्तृत व्याख्या Reviewed by सत्संग ध्यान on अक्तूबर 31, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.