Ad12

Ad12

MS05 श्रीगीता-योग-प्रकाश ।। गीता में फैले भ्रामक विचारों का महर्षि मेंहीं द्वारा प्रमाणिक निराकरण

श्रीगीता-योग-प्रकाश

     प्रभु प्रेमियों ! ' श्रीगीता - योग - प्रकाश ' सब श्लोकों के अर्थ वा उनकी टीकाओं की पुस्तिका नहीं है । श्रीगीता के सही तात्पर्य को समझने के लिए जो दृष्टिकोण चाहिए , वही इसमें दरसाया गया है ।


श्रीगीता-योग-प्रकाश
श्री गीता योग-प्रकाश

श्रीगीता-योग-प्रकाश की महत्वपूर्ण बातें

प्रभु प्रेमियों ! ' योग ' शब्द का अर्थ ' युक्त होना ' है । अर्जुन विषाद युक्त हुआ , इसी का वर्णन प्रथम अध्याय में है , इसीलिए उस अध्याय का नाम ' विषादयोग ' हुआ । जिस विषय का वर्णन करके श्रोता को उससे युक्त किया गया , उसको तत्संबंधी योग कहकर घोषित किया गया । अध्याय २ के श्लोक ४८ में कहा गया है - ' समत्वं योग उच्यते ' अर्थात् समता का ही नाम ' योग ' है । इससे स्पष्ट हो जाता है कि यहाँ ' योग ' शब्द का अर्थ समता है । पुनः उसी अध्याय के श्लोक ५० में कहा गया है - ' योगः कर्मसु कौशलम् ' अर्थात् कर्म करने की कुशलता या चतुराई को योग कहते हैं । यहाँ ' योग ' शब्द उपर्युक्त अर्थों से भिन्न , एक तीसरे ही अर्थ में प्रयुक्त हुआ है । अतएव गीता के तात्पर्य को अच्छी तरह समझने के लिए ' योग ' शब्द के भिन्न - भिन्न अर्थों को ध्यान में रखना चाहिए । 

     गीता स्थितप्रज्ञता को सर्वोच्च योग्यता कहती है और उसकी प्राप्ति का मार्ग बतलाती है । स्थितप्रज्ञता , बिना समाधि के सम्भव नहीं है । इसीलिए गीता के सभी साधनों के लक्ष्य को समाधि कहना अयुक्त नहीं है । इन साधनों में समत्व - प्राप्ति को बहुत ही आवश्यक बतलाया गया है । समत्व - बुद्धि की तुलना में केवल कर्म बहुत तुच्छ है । ( गीता २ / ४ ९ ) इसलिए समतायुक्त होकर कर्म करने को कर्मयोग कहा गया है । यही ' योगः कर्मसु कौशलम् ' है । अर्थात् कर्म करने की कुशलता को योग कहते हैं । कर्म करने का कौशल यह है कि कर्म तो किया जाय ; परन्तु उसका बंधन न लगने पावे । यह समता पर निर्भर करता है । गीता न सांसारिक कर्तव्यों के करने से हटाती है और न कर्मबंधन में रखती है । समत्व - योग प्राप्त कर स्थितप्रज्ञ बन , कर्म करने की कुशलता या चतुराई में दृढ़ारूढ़ रह , कर्तव्य कर्मों के पालन करने का उपदेश गीता देती है ।



इस पुस्तक के बारे में बिसेष रूप से जानने के लिए




प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक को आप ऑनलाइन अभी खरीद सकते हैं-


इस पुस्तक का मूल संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 120.00/-   +   शिपिंग चार्ज

श्रीगीता-योग-प्रकाश
---×---

इस पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद संस्करण के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 60.00/-   +   शिपिंग चार्ज

गीता योग अंग्रेजी
---×---


"श्रीगीता-योग-प्रकाश " पुस्तक का मूल  PDF संस्करण भारती (हिंदीं) के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 40.00/-  मात्र

MS05  श्रीगीता-योग-प्रकाश

नोट- पेमेंट करने के बाद अपना ईमेल से बुक डाउनलोड कर प्राप्त करें.
---×---


ESSENCE OF GITA-YOGA (SHRIGITA-YOGA PRAKASH) पुस्तक का PDF संस्करण (अंग्रेजी अनुवाद) के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि- ₹ 50.00/- मात्र

गीता  पी डी एफ अंग्रेजी

नोट- पेमेंट करने के बाद अपना ईमेल से बुक डाउनलोड कर प्राप्त करें.

---×---

पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद संस्करण के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 60.00/-   +   शिपिंग चार्ज

गीता सार

---×---

सचेतन



     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो में इस पुस्तक के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज



महर्षि साहित्य सूची की अगला पुस्तक है-  MS06

MS06 संतवाणी सटीक ।। 33 सन्तो के ईश्वर-भक्ति, साधना, बंधन-मोक्ष सम्बंधित वचनों का सटीक संग्रह की पुस्तक | इसके बारे में विशेष जानकारी के लिए   . 👉 यहां दबाएं.

---×---

MS05 श्रीगीता-योग-प्रकाश ।। गीता में फैले भ्रामक विचारों का महर्षि मेंहीं द्वारा प्रमाणिक निराकरण MS05  श्रीगीता-योग-प्रकाश ।। गीता में फैले भ्रामक विचारों का महर्षि मेंहीं द्वारा प्रमाणिक निराकरण Reviewed by सत्संग ध्यान on नवंबर 10, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.