Ad12

Ad12

MS04 विनय-पत्रिका-सार सटीक ।। गो. तुलसी दासजी की साधना-पद्धति और साधनात्मक गति की बातें

विनय-पत्रिका-सार सटीक

     प्रभु प्रेमियों  ! निज विचारों और अनुभवों से भरा हुआ है . गो. तुलसीदास जी महाराज योग , वैराग्य , ज्ञान और भक्ति को प्रेम के अत्यन्त मधुर रस में पागकर बने हुए अत्युत्तम मोदक ' विनय - पत्रिका ' में भरे पड़े हैं , जो भव - रोगों से ग्रसित दुर्बल और आत्म - बलहीन जीवों के लिए अत्यन्त पुष्टिकर हैं ।

गुरुदेव साहित्य 'MS03 . वेद दर्शन - योग'  के लिए

विनय-पत्रिका-सार-सटीक

विनय-पत्रिका-सार सटीक की महत्वपूर्ण बातें

     प्रभु प्रेमियों  ! 'विनय - पत्रिका ' गोसाईं तुलसीदासजी महाराज का अन्तिम ग्रंथ है । यह उनके निज विचारों और अनुभवों से भरा हुआ है । गोसाईंजी महाराज ने ' रामचरितमानस ' को ' सद्गुरु ज्ञान विराग जोग के ' कहकर उसे योग का सद्गुरु बतलाया है । यदि . ग्रंथकर्ता स्वयं योग का सद्गुरु न हो , तो उनका ग्रंथ योग का सद्गुरु कैसे हो सकता है ? गोस्वामीजी महाराज योग के सद्गुरु थे , इस बात को उनकी ' विनय - पत्रिका ' भली भाँति सिद्ध कर देती है । योग , वैराग्य , ज्ञान और भक्ति को प्रेम के अत्यन्त मधुर रस में पागकर बने हुए अत्युत्तम मोदक ' विनय - पत्रिका ' में भरे पड़े हैं , जो भव - रोगों से ग्रसित दुर्बल और आत्म - बलहीन जीवों के लिए अत्यन्त पुष्टिकर हैं । गोस्वामीजी महाराज प्राचीन काल के नारद , सनकादिक और परम भक्तिन शबरी की तरह के और आधुनिक काल के कबीर साहब और गुरु नानक इत्यादि संतों की तरह के भक्ति की चरम सीमा तक पहुँचे हुए , योग और ज्ञानयुक्त भक्ति में परिपूर्ण और निर्मल सन्त थे । ऐसे सन्त के अन्तिम ग्रन्थ में उनकी अन्तिम गति का भाव अवश्य ही वर्णित होगा । इसी भाव को जानने और उसे संसार के सामने प्रकाश करने के लिए यह ' विनय - पत्रिका - सार सटीक ' लिखने का मैंने प्रयास किया है । इससे गोस्वामीजी महाराज की अन्तिम गति का और उस गति तक पहुँचने के मार्ग का पता लग जाता है । इस मार्ग को जानकर यदि मनुष्य इसपर चले , तो अन्त में गोस्वामीजी महाराज की तरह परम कल्याण पा सके । मनुष्य के लिए इससे बढ़कर लाभ दूसरा नहीं हो सकता । 

विनय-पत्रिका-सार-सटीक
विनय पत्रिका सार सटीक

इस पुस्तक के बारे में विशेष 
जानकारी के लिए 
यहां दबाएं 




     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक को आप ऑनलाइन अभी खरीद सकते हैं


चेतावनी


पुस्तक का मूल संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 30.00/-   +   शिपिंग चार्ज

विनय-पत्रिका-सार-सटीक


इस पुस्तक का पीडीएफ संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि- ₹ 25.00/-


चेतावनी


प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो  में सत्संग योग चारो भाग के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज



महर्षि साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  MS05

   MS05 श्रीगीता-योग-प्रकाश ।। गीता में फैले भ्रामक विचारों का महर्षि मेंहीं द्वारा प्रमाणिक निराकरण की अद्भुत पुस्तक.  इसके बारे में विशेष जानकारी के लिए  👉 यहां दबाएं.


---×--
MS04 विनय-पत्रिका-सार सटीक ।। गो. तुलसी दासजी की साधना-पद्धति और साधनात्मक गति की बातें MS04  विनय-पत्रिका-सार सटीक ।। गो. तुलसी दासजी की साधना-पद्धति और साधनात्मक गति की बातें Reviewed by सत्संग ध्यान on नवंबर 10, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.