Ad12

Ad12

MS18 महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर || मोक्ष प्राप्ति तक मनुष्य जन्म दिलाने वाला अनमोल पुस्तक

MS18  महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर

     प्रभु प्रेमियों ! 'महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर' Santamat-satsang ke prachaaraarth bhaarat aur nepaal ke shaharon sthanon mein deeye gaye pravachanon ka sankalan hai. MS18 . महर्षि मेंहीं सत्संग - सुधा सागर भाग 1 - इसका प्रथम प्रकाशन वर्ष 2004 ई0 है. इसमें गुरु महाराज के 323 प्रवचनों का संकलन है। इन प्रवचनों का पाठ करके ईश्वर, जीव ब्रह्म, साधना आदि आध्यात्मिक विषयों का ज्ञान हो जाता है.

गुरुदेव साहित्य 'MS17 . महर्षि मेंहाँ - वचनामृत , प्रथम खंड,  के लिए  👉 यहां दवाएं.

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर भाग- 1
महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर की महत्वपूर्ण बातें

प्रभु प्रेमियों ! ' संतों के हृदय में पायी जाती हैं - ' लोककल्याण की कामना । ' इसीलिए संत का लक्षण बतलाते हुए गोस्वामी तुलसीदासजी को कहना पड़ा- ' विश्व उपकारहित व्यग्रचित सर्वदा ' और ' पर उपकार वचन मन काया ' । संतों की सिद्धावस्था के बाद का जीवन ' सत्य धर्म की संस्थापना के द्वारा लोककल्याण ' के लिए पूर्णत : समर्पित हो जाता है । इसी सार्वभौमिक सिद्धान्त के साकार रूप थे- सद्गुरु महर्षि में ही परमहंस जी महाराज | अध्यात्म विज्ञान पर गंभीर प्रयोग कर उन्होंने ईश्वर प्राप्ति का जो शुद्ध , सत्य , संक्षिप्त और निरापद मार्ग उद्घाटित किया , उसे जन - जन तक पहुँचाने के लिए उन्होंने गंभीर कष्ट सहा । जाड़ा , गर्मी और बरसात का विकट मौसम , देहात की ऊँची - नीची कच्ची सड़कें , बैलगाड़ी की सवारी , कभी पैदल यात्रा , रहने को टूटी - फूटी झोपड़ी , पीने को नदी का जल तथा खाने को रूखा - सूखा भोजन ; फिर भी चेहरे पर गहरा संतोष और बाल सुलभ आनन्द , यह थी सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज की परोपकार रत भावना का प्रत्यक्ष प्रमाण।

     संत साकार ब्रह्म होने के कारण उनकी वाणी को ब्रह्मवाणी कहना अयुक्त नहीं है । महर्षि में ही सत्संग - सुधा - सागर उन्हीं ब्रह्मवाणी का संकलन है । वह ब्रह्मवाणी क्या है ? अमरता प्रदान करनेवाला अमृत ही है , जो महर्षि में हीँ परमहंसजी महाराज के श्रीमुख से प्रवचन के क्रम में निःसृत हुआ करता था । जो व्यक्ति इस ज्ञानामृत का प्रसाद ग्रहण करेंगे , वे अंधकार से प्रकाश में , असत् से सत् में और मृत्यु से अमृत में प्रतिष्ठित होकर सर्वसुख-शांति के भागी होंगे । 


इस पुस्तक के बारे में बिसेष रूप से जानने के लिए




प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक को आप ऑनलाइन अभी खरीद सकते हैं-
नोट- यह सदग्रंथ अभी मूल रूप में उपलब्ध नहीं है. उपलब्ध होने पर यह नोट नहीं दिखाई देगा. इस ग्रंथ का पीडीएफ फाइल उपलब्ध है इंस्टामोजो से खरीदें.


सचेतन

इस पुस्तक का मूल संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 1350.00/-   +   शिपिंग चार्ज

सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज के विविध विषयों पर विभिन्न स्थानों में दिए गए प्रवचनों का संग्रहनीय ग्रंथ महर्षि मेंहीं सत्संग-सुधा सागर

सचेतन



     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करें जिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो में इस पुस्तक के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराजमहाराज




महर्षि साहित्य सूची की अगला पुस्तक है-  MS20

MS06 संतवाणी सटीक ।। 33 सन्तो के ईश्वर-भक्ति, साधना, बंधन-मोक्ष सम्बंधित वचनों का सटीक संग्रह की पुस्तक | इसके बारे में विशेष जानकारी के लिए   . 👉 यहां दबाएं.

MS18 महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर || मोक्ष प्राप्ति तक मनुष्य जन्म दिलाने वाला अनमोल पुस्तक MS18  महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा-सागर  || मोक्ष प्राप्ति तक मनुष्य जन्म दिलाने वाला अनमोल पुस्तक Reviewed by सत्संग ध्यान on फ़रवरी 24, 2022 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.