Ad12

Ad12

MS08 मोक्ष-दर्शन || मोक्ष संबंधी आवश्यक सभी बातों की स्टेप बाय स्टेप जानकारी की पुस्तक

MS08 मोक्ष-दर्शन

     प्रभु प्रेमियों ! ' सत्संग - योग ' की भूमिका में सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज शुरू में ही लिखते हैं - "सत्संग द्वारा श्रवण - मनन से मोक्षधर्म - सम्बन्धी मेरी जानकारी जैसी है , उसका ही वर्णन चौथे भाग में मैंने किया है । परमात्मा , ब्रह्म , ईश्वर , जीव , प्रकृति , माया , बन्ध मोक्षधर्म वा सन्तमत की उपयोगिता , परमात्म भक्ति और अन्तर - साधन का सारांश साफ - साफ समझ में आ जाय इस भाग के लिखने का हेतु यही है । '


मोक्ष-दर्शन हिंदीं
Mosk darsan

मोक्ष संबंधी महत्वपूर्ण सभी बातों सहित है मोक्ष-दर्शन

     मोक्ष - संबंधी पर्याप्त ज्ञान के हेतु मैंने वेदार्थ , उपनिषद् , संतवाणी तथा अन्यान्य सद्ग्रंथों का अध्ययन किया । श्रीसद्गुरु महाराजजी का संग तो था ही , इसके अतिरिक्त यत्र - तत्र भ्रमण करके मैंने अन्य महात्माओं का भी सत्संग किया । वर्णित सद्ग्रंथों में से मोक्ष - विषयक सद्ज्ञान का संग्रह कर उसे तीन भागों में विभक्त कर दिया । 

     सत्संग , अध्ययन और वर्षों के साधनाभ्यास की अनुभूतियों से जो कुछ मेरी जानकारी में आया - जैसा कुछ मुझे बोध हुआ , उन सबको अपने वाक्यों में गठित कर मैंने चौथे भाग का निर्माण किया । पश्चात् चारो को मिलाकर उस बृहत् पुस्तक का नाम मैंने ' सत्संग योग ' रखा । ' सत्संग - योग ' के चौथे भाग में यत्र - तत्र प्रमाण स्वरूप कुछ संतों की वाणियाँ भी दी गयी हैं । ईश्वर , जीव , जगत् , जीव का बंध और मोक्ष , मोक्ष- मार्ग पर चलने का सहारा और उसकी युक्ति प्रभृति मोक्ष - विषयक जिन बातों का ज्ञान मनुष्य को अनिवार्य रूप से होना चाहिए , वह समस्त ज्ञान इस चौथे भाग में है । 

     कल्याण - पाद महर्षिजी ने वेद - काल से लेकर आजतक के मोक्ष - दर्शन को चार प्रकोष्ठों में प्रतिष्ठित किया है और उसका नाम रखा है- ' सत्संग - योग , चारो भाग ' और उनके अनुभव ज्ञान की वाणियाँ गम्भीर सरलता में अभिव्यक्त होकर ' मोक्ष - दर्शन ' नाम धारण कर आज मुमुक्षुजनों में अमृत - वितरण के लिए प्रस्तुत है ।

 इस पुस्तक के संबंध में विशेष 
जानकारी के लिए 





     MS08 इस पुस्तक को आप अभी ओनलाइन खरीद सकते हैं-

सचेतन


MS08  इस पुस्तक के साधारण संस्करण के लिए-

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 75.00/-   +   शिपिंग चार्ज


---×---


सचेतन



MS08  इस पुस्तक का हार्डकवर संस्करण (अंग्रेजी) के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 150.00/-   +   शिपिंग चार्ज

मोक्ष-दर्शन अंग्रेजी
----×---


सचेतन



MS08  इस पुस्तक का PDF संस्करण (हिन्दी) के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 30.00/- 

मोक्ष-दर्शन मुख्य कवर



नोट- पेमेंट करने के बाद अपना ईमेल से बुक डाउनलोड कर प्राप्त करें.
---×---


सचेतन


MS08  इस पुस्तक का PDF  संस्करण (अंग्रेजी) के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 50.00/-  


मोक्ष-दर्शन अंग्रेजी


नोट- पेमेंट करने के बाद अपना ईमेल से बुक डाउनलोड कर प्राप्त करें.

---×---


इस पुस्तक में बहुत सारे कृलिस्ट शब्दों का प्रयोग हुआ है जो      परिभाषिक शब्द भी है उन सभी शब्दों को एकत्रित 
करके इसका एक शब्दकोश बनाया गया है 
उसे भी अभी खरीद ले.


सचेतन


"मोक्ष-दर्शन का शब्दकोष" के लिए

इस पुस्तक का मूल संस्करण के लिए

न्यूनतम सहयोग राशि-   ₹ 30.00/-   +   शिपिंग चार्ज


---×---


सचेतन


     प्रभु प्रेमियों  ! इस पुस्तक के बारे में इतनी अच्छी जानकारी प्राप्त करने के बाद हमें विश्वास है कि आप इस पुस्तक को अवश्य खरीद कर आपने मोक्ष मार्ग के अनेक कठिनाईयों को दूर करने वाला एक सबल सहायक प्राप्त करेंगे. इस बात की जानकारी अपने इष्ट मित्रों को भी दे दें, जिससे वे भी इससे लाभ उठा सकें और आप इस ब्लॉग वेबसाइट को अवश्य सब्सक्राइब करेंजिससे आपको आने वाले पोस्ट की सूचना निशुल्क मिलती रहे और आप मोक्ष मार्ग पर होने वाले विभिन्न तरह के परेशानियों को दूर करने में एक और सहायक प्राप्त कर सके. नीचे के वीडियो  में सत्संग योग चारो भाग के बारे में और कुछ जानकारी दी गई है . उसे भी अवश्य देख लें. फिर मिलते हैं दूसरे प्रसंग के दूसरे पोस्ट में . जय गुरु महाराज



 महर्षि साहित्य सूची के अगला पुस्तक है-  MS09


ज्ञान योग युक्त ईश्वर भक्ति
MS09 . ज्ञान - योग - युक्त ईश्वर भक्ति  || परमात्मा को प्राप्त करने के लिए ज्ञान-योग और भक्ति का समन्वय परमावश्यक है।. इस पुस्तक के बारे में विशेष जानकारी के लिए 
 👉 यहां दबाएं 

---×---
MS08 मोक्ष-दर्शन || मोक्ष संबंधी आवश्यक सभी बातों की स्टेप बाय स्टेप जानकारी की पुस्तक MS08  मोक्ष-दर्शन ||  मोक्ष संबंधी आवश्यक सभी बातों की स्टेप बाय स्टेप जानकारी की पुस्तक Reviewed by सत्संग ध्यान on नवंबर 13, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

जय गुरु महाराज कृपया इस ब्लॉग के मर्यादा या मैटर के अनुसार ही टिप्पणी करेंगे, तो उसमें आपका बड़प्पन होगा।

Popular Posts

Ads12

Blogger द्वारा संचालित.